ePaper | Make Dainik Navajyoti your home page
राजस्थान >> राजसमन्द
 
Bookmark and Share
Friday, 23 March | 09:53:37 AM IST
नवसंवत्सर की पूर्व संध्या पर निकाली झांकियां
राजसमंद। अखिल भारतीय नववर्ष समारोह समिति उदयपुर एवं आलोक संस्थान राजसमंद के संयुक्त तत्वावधान में चैत्रा शुक्ल प्रतिपदा नव सम्वत्सर 2069 की पूर्व संध्या पर गुरुवार को पवित्रा ज्योति कलश संस्कृति चेतना यात्रा नाथद्वारा के श्रीनाथजी मंदिर से द्वारकाधीश मंदिर कांकरोली तक विभिन्न झांकियों के साथ निकाली गई व विदा विक्रम संवत् 2068 एवं स्वागत विक्रम संवत् 2069 का भव्य आयोजन किया गया। प्राचार्य सुनील त्रिपाठी ने बताया कि नव सम्वत्सर की पूर्व संध्या पर दोपहर 2.00 बजे नाथद्वारा के श्रीनाथजी मंदिर से ज्योति कलश संस्कृति चेतना यात्रा निकाली गई। यह यात्रा आलोक संस्थान उदयपुर व राजसमंद से रवाना हुई जो श्रीनाथजी मंदिर मोती महल तक भव्य शोभा यात्रा के साथ पहूंची। कार्यक्रम का शुभारंभ लोकसंत श्री सन्तोंषनाथ जी बालयोगी, पीठाधीश, अखिल भारतीय नाथ सम्प्रदाय, आइतो की धूणी, बड़ा भाणुजा, लोकसंत श्री भीमसिंह जी चौहान, पीठाधीश, अखिल भारतीय कल्लाजी सम्प्रदाय, काली कल्याणधाम, मादड़ी ‘वर्धा’, श्रीनाथजी के बडे मुखिया श्री नरहरिजी ठक्कर, श्री सुधाकरजी शास्त्राी, अधिकारी, श्री कृष्णभण्डार, डॉ. प्रदीप कुमावत, राष्टÑीय सचिव न.व. समारोह समिति, श्रीमती गीता देवी शर्मा, अध्यक्ष, न.पा. नाथद्वारा, प्रशासक मनोज कुमावत, प्राचार्य सुनील त्रिपाठी ने मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्जवलन कर किया। कार्यक्रम के प्रारंभ में अतिथियों को हल्दीघाटी की माटी से तिलककर व उपरणा ओढ़ाकर स्वागत व अभिनंदन किया गया। कार्यक्रम स्थल पर नो कन्याएं गंगा व यमुना जल से भरे कलश धारण किये हुए थी। इन कलर्शो की घट स्थापना कर व मशाल प्रज्जवलन कर के पवित्रा ज्योति कलश संस्कृति चेतना यात्रा का शुभारंभ संतों द्वारा किया गया। यह पवित्रा ज्योति श्रीनाथजी मंदिर से प्रज्जवलित होकर संस्कृति चेतना यात्रा के रूप में प्रारंभ होकर मोतीमहल से नगर में चौपाटी, माणक चौक, गांधी रोड, बड़ौदा बैंक, अहिल्या कुंड, नई सडक, वंदना होटल,बस स्टेण्ड, लाल बाग, गुंजोल, बड़ारड़ा-काठियावाड़ी होटल, पिपरड़ा, चुंगी नाका, बाइपास चौराहा, धोईन्दा, टीवीएस चौराहा, जल चक्की होते हुए श्री द्वारकाधीश मंदिर सांय 7.00 बजे पहुंची। पवित्रा यात्रा का मार्ग में जगह-जगह पर स्वागत किया गया। कलश यात्रा में विभिन्न गाड़ियों को फूल मालाओं, बेनरों, व झंण्डियों से आकर्षक रूप से सजाया गया था जिसमें विभिन्न देवी देवताओं व महापुरूषों के रूप धारण करके बच्चे बैठे। मार्ग मेंं जगह-जगह पर कलश यात्रा का विभिन्न समाज के संगठनों व व्यापारियों, नागरिकां ने प्रमुख चौराहो पर फूल माला, जलपान से स्वागत किया। यात्रा में अनेक प्रकार की झांकियां सजी हुई थी। बच्चो ने राम-सीता, लक्ष्मण, हनुमान, गणेश, शिव- पार्वती, कृष्ण-राधा, महाराणा प्रताप व महाराज विक्रमादित्य का रूप धारण किया। यह यात्रा शहर के प्रमुख मार्गों  से गुजरती हुई सांय 7.00 बजे श्री द्वारकाधीश मंदिर प्रांगण में पहुंची।
नगरपालिका ने भी किए विविध कार्यक्रम
नव सम्वत्सर 2069 की पूर्व संध्या के उपलक्ष्य में भव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम के प्रारंभ में नगरपालिका अध्यक्षा आशा देवी पालीवाल, प्रशासक मनोज कुमावत, प्राचार्य सुनील त्रिपाठी द्वारा दीप प्रज्जवलन किया गया। विदा नव सम्वत्सर 2068 समारोह में समाज आधार स्तम्भ सम्मान समारोह, नशामुक्ति संकल्प अभियान, राष्टÑ को नमन-वंदे मातरम सामूहिक गान व भारत माता के चित्र पर दीप प्रज्जवलन कार्यक्रम आयोजित किये गये। समाज आधार स्तम्भ सम्मान समारोह में विभिन्न समाजा संगठनों के समाज सेवियों को श्रीनाथजी की तस्वीर, प्रशस्तिपत्रा, श्रीफल व उपरणा ओढाकर सम्मानित किया गया। इसअवसर पर नशामुक्ति अभियान के अर्न्तगत एक बडे बैनर पर नशे से दूर रहने के संकल्प लिखे गये जिसमें वहां उपस्थित जन समूदाय ने उत्साह से भाग लिया व नशे से दूर रहने का संकल्प लिया। राष्टÑ को नमन व वंदे मातरम् का सामूहिक गान कर भारत माता के विशाल चित्रा पर दीप प्रज्जवलन कर संवत् 2068 को भावभीनी विदाई देकर सम्वत् 2069 का भव्य स्वागत किया गया। भारत माता के विशाल चित्रा पर अथितियों, शहरवासियों, अध्यापकों व विद्यार्थियों ने एक दीया संस्कृति के नाम पर दीप प्रज्जवलन किया गया। इस अवसर पर महाआरती का आयोजन किया गया जिसमें असंख्य नागरिकों व भक्तों ने भाग लिया। नववर्ष समारोह समिति के राष्टÑीय अध्यक्ष श्री श्यामलाल कुमावत व राष्टÑीय सचिव डॉ. प्रदीप कुमावत, प्रशासक मनोज कुमावत, प्राचार्य सुनील त्रिपाठी ने राजसमंद के सभी शहरवासियों को नव सम्वत्सर की पूर्व संध्या पर हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं दी। नव सम्वत्सर के अवसर पर  डॉ. प्रदीप कुमावत राष्टÑीय सचिव (न. व. समारोह समिति) ने कहा कि नव सम्वत्सर मनाना हमारी भारतीय संस्कृति की पहचान है। यह हमारी विरासत व धरोहर है जिसे हम अपने रीति रिवाज के साथ मनाकर गर्व प्रकट करते है उन्होने सभी के लिए अच्छे व उज्जवल जीवन की कामना करते हुए नववर्ष की बधाई दी। आलोक संस्थान भारतीय संस्कृति के प्रतीक नव सम्वतसर का आयोजन करके समाज में सराहनीय प्रयास कर रहा है। यह आयोजन हमें अपने प्राचीन मूल्यों को, सांस्कृतिक परम्पराओं को याद दिलाता है। यह नववर्ष अपना विशाल रूप लेकर नव सम्वतसर के रूप में पूरे देश में वृहद रूप से मनाया जा रहा है।
विक्रम संवत 2069 के स्वागत
जेके टायर के मैन गेट पर विक्रम संवत 2069 के स्वागत का कार्यक्रम होगा। जिसमें शुक्रवार को सुबह साढे पांच बजे से सभी श्रमिक एक दूसरे को तिलक लगाकर मिश्री, काली मिर्ची व नीम की कोपले खिलााएंगे और नए साल की शुभकामनाएं देंगे। यूनियन द्वारा फैक्ट्री के गेट पर रंगोली बनाने के साथी ही शुक्रवार दोपहर को आमसभा का आयोजन किया जाएगा।  
निकाली पवित्र ज्योति कलश यात्रा नाथद्वारा। नववर्ष समारोह समिति उदयपुर तथा आलोक शिक्षण संस्थान राजसमंद के तत्वावधान में नववर्ष के उपलक्ष में चल रहे दो दिवसीय कार्यक्रमों के तहत गुरुवार को नगर में पवित्र ज्योति कलश यात्रा निकाली गई।  मोती महल के बाहर हुए कार्यक्रम में नपा अध्यक्षा गीता शर्मा, मंदिर के बड़े मुखिया नरहरि ठक्कर, मंदिर के अधिकारी सुधाकर शास्त्री, संस्थान के डॉ.प्रदीप कुमावत , मनोज कुमावत ने दीप प्रज्ज्वलित कर शोभायात्रा का शुभारंभ किया। मोती महल से नौ कन्याएं कलश में गंगा तथा यमुना का जल लेकर तथा नपाध्यक्षा ज्योती लेकर शामिल हुई। यात्रा के आगे बैंडबाजों का दल भक्तिमयी धुन बजा रहा है, इसके पीछे पवित्र ज्योती, कलश, व गाड़ियों पर आलोक संस्थान द्वारा सजाई देवी व देवताओं की झांकियां लोगों को आकर्षित कर रही थी। यात्रा मोतीमहल से माणक चौक, चौपाटी, गांधी मार्ग, टेक्सी स्टेण्ड, लम्बी सड़क, नया मार्ग, बस स्टेण्ड होती हुई एक यात्रा राजसमंद के लिए रवाना हुई।  वहीं दूसरी यात्रा टेक्सी स्टैण्ड से रिसाला चौक, कुम्हारवाड़ा, बस स्टैण्ड होती हुई उदयपुर के लिए रवाना हुई। ज्योती कलश दो रथों पर सजाई गई थी। एक रथ को उदयपुर गणगौर घाट, तो दूसरे को राजसमंद, द्वारिकाधीश मंदिर के लिए रवाना किया गया। इस अवसर पर आलोक संस्थान के श्यामसुंदर कुमावत, डॉ प्रदीन कुमावत,मनोज कुमावत, प्राचार्य सुनील त्रिपाठी , स्टॉफ  में से दिक्षा श्रीमाली, हेमलता श्रीमाली, पृथ्वीराज पालीवाल, देवेन्द्र कुमावत सहित मुस्कान जोशी, तनिष्क जोशी व सैकड़ो लोग उपस्थित थे।
भाविप ने किया स्वागत
ज्योति कलश यात्रा के शुभारंभ अवसर पर जहां एक ओर संस्थान की तरफ  से अतिथियों का स्वागत सत्कार किया गया। वहीं भारत विकास परिषद् शाखा नाथद्वारा की तरफ से यात्रा में उपस्थित आयोजकों का स्वागत कर ज्योती कलश यात्रा की पूजा-अर्चना की गई। भाविप के संरक्षक गौविंदकांत त्रिपाठी, नगराध्यक्ष राकेश सोनी, सचिव प्रकाश सामोता सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे। यात्रा का नगर के प्रमुख मार्गों पर जगह-जगह स्वागत सत्कार किया गया।
तिलक लगा, मिश्री खिलाकर मनाएंगे नवसंवत्सर
विद्या निकेतन माध्यमिक विद्यालय की ओर से शुक्रवार को नवसंवत्सर की अगुवानी नगर की चौपाटी पर तिलक लगाकर, मिश्री व नीम के पत्तों का प्रसाद वितरण कर किया जाएगा। कार्यक्रम संयोजक उदयलाल पालीवाल ने बताया कि छात्र-छात्राओं द्वारा 35 गांवों में नववर्ष का कार्यक्रम आयोजित होगा। इसमें प्रत्येक गांव में छात्र-छात्रा की टोलियां बनाई गई है जो घर-घर जाकर नववर्ष की बधाई देंगे व मिश्री, नीम के पत्ते तथा काली मिर्च का प्रसाद सभी को वितरित करेंगे।
 
blog comments powered by < span class="logo-disqus">Disqus
 
 
 
अन्य संबंधित